Breaking News

सिकटा में हुई अगलगी में सोलह घर समेत घरों में रखे समान राख, दो सिलेंडर किया ब्लास्ट

 

सिकटा(चितंरजन कुमार गुप्ता )। गौचरी पंचायत के पतुकहिया तुनिया टोला गांव में शनिवार की दोपहर बाद हुई अगलगी में सोलह घरों समेत घर में रखे सभी समान जलकर राख हो गया। घटना को लेकर गांव में कोहराम मचा है।घटना की खबर पर सीओ धर्मेंद्र प्रसाद गुप्ता, बीड़ीओ मिथलेश कुमार, बेतिया सदर इस्पेक्टर राकेश कुमार श्रीवास्तव, गोपालपुर थानाघ्यक्ष शाहिद अनवर, बलथर थानाघ्यक्ष विवेक कुमार जायसवाल व पुरूषोतमपुर थानाघ्यक्ष अशोक कुमार सदल-बल पहुंचे।सीओ श्री गुप्ता ने बताया कि अगलगी की घटना गोपालपुर थाना में कार्रवाई की जा रही है। पीड़ितों के बीच राजस्व कर्मचारी शिव सागर प्रसाद ने प्लास्टिक सीट उपलब्ध करा दिया गया तथा 9800 रूपये देने की कार्रवाई की जा रही है। जानकारी के अनुसार ग्रामीणों व चार अग्निशमन दल के सहयोग के बाद आग पर चार घंटे बाद काबू पाया गया। इन दौरान कई घर क्षतिग्रस्त हो गये।अगलगी की घटना में चार छतदार मकान में रखे गये सभी समान जलकर राख हो गया है। ग्रामीणों ने बताया कि विनोद राउत के घर में बच्चे गन्ना के पतहर जलाकर से कुछ बना रहे थे। इसी दौरान फूस के घर में एकाएक आग पकड़ लिया। परिवार के सदस्य खेतों में काम करने चले गये थे। आग देखते ही देखते सुरेश राउत के फूस के घर में भी आग फैल गया। ग्रामीण आग बुझाने में जूटे थे। इसी क्रम में सुरेश राउत के घर में रसोई गैस का सेलेंडर ब्लास्ट कर आग बेकाबू हो गया। अगलगी में बृजकिशोर राउत, धनीलाल राउत, विनोद राउत, सुरेश राउत, साधू राउत, राजेन्द्र राउत, हिमांचल राउत, कंचन राउत, जितेंद्र राउत, मदन राउत, बूनी राउत, विन्दू राउत, नन्दू राउत, भरोस राउत, नथूनी राउत व रामेश्वर राउत के घर को अपने चपेट में लेकर घर समेत में रखे समान देखते ही राख हो गया। सभी पीडित परिवार कमकर जाति के भूमिहीन बताये जाते है। अगलगी की खबर पर बलथर व गोपालपुर थाना व बेतिया से चार अग्निशमन वाहन पहुंच कर चार घंटे बाद आग पर काबू पाया। अगलगी में दो रसोई गैस सिलेंडर फटे। जिससे आग बेकाबू हो गया।घटना की खबर सुन जनप्रतिनिधि व प्रतिनिधि समेत कई लोगों पीड़ित परिजनों को सांत्वना देने पहुंच रहें। यहां बता दें कि इस भयानक अगलगी की घटना पर नजदीक पंडई नाला का बन्दोवस्त होना सब को याद आ रहा था। सभी लोग यही कह रहे थे कि पंडई नाला आज होता तो ऐसी भयंकर स्थिति नही होती। आग लगते ही आग पर काबू पाया जा सकता था।

Check Also

स्मृति चिन्ह के रूप में सत्याग्रह फाउंडेशन द्वारा भेट किया–एजाज अहमद

    ब्यूरो रिपोर्ट पश्चिम चम्पारण   बेतिया। गांधी स्मारक संग्रहालय भित्हरवा आश्रम मे आयोजित दो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *