Breaking News

मंत्री द्वारा रू0 366.62 करोड़ की पांच विभिन्न परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास

 

ब्यूरो रिपोर्ट पश्चिम चम्पारण    बेतिया। जिले के बगहा अनुमंडल मैदान में आयोजित सभा में संयुक्त रूप से रू0 366.62 करोड़ की लागत से राष्ट्रीय राजमार्ग, राष्ट्रीय जलमार्ग एवं केन्द्रीय सड़क निधि की पांच विभिन्न परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, पोत परिवहन, जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्री, भारत सरकार, नितिन गडकरी द्वारा किया गया। जिसमें एनएच 28 बी के मिश्रौली से परसौनी तक 24 किमी. लंबाई का रू0 93.84 करोड़ की लागत से दो लेन चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण कार्य का लोकार्पण शामिल हैं।

 

केन्द्रीय मंत्री द्वारा शिलान्यास किये जाने वाले योजनाओं में एनएच-28 बी के बगहा में आरओबी पहुंच पथ सहित का रू0 62.48 करोड़ की लागत से निर्माण कार्य, एनएच-28 बी के मंगलपुर में आरओबी पहुंच पथ सहित का रू0 68.49 करोड़ की लागत से निर्माण कार्य, मनुआपुल से योगापट्टी-नवलपुर-रतवल चौक तक 37 किमी सड़क की लंबाई में रू0 128.90 करोड़ की लागत से केन्द्रीय सड़क निधि से चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण कार्य एवं राष्ट्रीय जलमार्ग (छॅ.37) के गंडक नदी पर भैसालोटन बराज (वाल्मीकिनगर) से गंडक/गंगा संगम (हाजीपुर) तक रू0 12.91 करोड़ की लागत से 300 किमी जलमार्ग के विकास कार्य शामिल हैं। लोकार्पण एवं शिलान्यास कार्यक्रम में अपने संबोधन में माननीय केन्द्रीय मंत्री, गडकरी ने कहा कि अगले 6 माह के अंदर गंडक नदी में रिवर पोर्ट बनाकर पटना तक जलमार्ग का निर्माण पूरा किया जायेगा। राष्ट्रीय जलमार्ग (एन.डब्ल्यू-37) के गंडक नदी पर भैसालोटन बराज (वाल्मीकिनगर) से गंडक/गंगा संगम (हाजीपुर) तक 300 किमी जलमार्ग के विकास पर रू0 12.91 करोड़ खर्च किये जायेंगे। गंडक जलमार्ग को चालू करने हेतु गंडक नदी को 1.2 मीटर गहरा किया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस जलमार्ग के चालू होने के उपरांत 1000 टन तक के जहाज चलेंगे। राष्ट्रीय जलमार्ग के चालू होने से इस क्षेत्र का आर्थिक और सामाजिक विकास होगा। उन्होंने कहा कि यहां की जमीन काफी उपजाऊ है और यहां के लोग काफी मेहनती भी है। जलमार्ग का विकास होने पर माल की ढुलाई में कम खर्चे आयेंगे और इसके चलते रोजमर्रों की चीजें अपेक्षाकृत कम कीमत पर उपभोक्ताओं को मिलेंगे। उन्होंने कहा कि सड़क मार्ग से जहां 10 रू0 खर्च होता है, वहीं रेल मार्ग पर खर्चा 6 रू0 होता है। लेकिन जलमार्ग के चालू होने से यह खर्च 10 रू0 के जगह पर 1 रू0 हो जायेगा, यानि सड़क मार्ग ढुलाई लागत का दसवां हिस्सा ही जलमार्ग में खर्च होगा। केन्द्रीय मंत्री ने अपने संक्षिप्त संबोधन में सरकार की उपलब्धियों को गिनाया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार की प्राथमिकता सर्वांगीण विकास है। उनके जिम्मे परिवहन मंत्रालय है। भूतल एवं जलमार्ग को विकसित करने की दिशा में तेजी से कार्य हो रहा है। उन्होंने घोषणा किया कि देश के अन्य राज्यों की तरह बिहार में भी उच्च गुणवत्ता के सड़क का जाल बिछाये जायेंगे। बिहार के बगहा संसदीय क्षेत्र में सड़क एवं जलमार्ग विकास कार्यों को सरकार के प्राथमिकता सूची में डलवाने में स्थानीय सांसद सतीश चंद्र दुबे के सहयोग की सराहना किया। उन्होंने कहा कि आज टेक्नोलॉजी में निरंतर प्रगति हो रही है। इसी के फलस्वरूप पानी पर उतरने वाला हवाई जहाज सेवा शीघ्र लॉंच किये जाने की बात कही। इस अवसर पर सांसद, वाल्मीकिनगर सतीश चंद्र दुबे, विधायिका श्रीमती भागीरथी देवी, विधायक विनय बिहारी, राघव शरण पाण्डेय, जिप अध्यक्ष शैलेन्द्र गढ़वाल, कई पूर्व विधायक, जदयू/भाजपा/लोजपा के जिला प्रभारी आदि उपस्थित थे। वहीं राष्ट्रीय उच्च पथ के चीफ इंजिनियर, एनएच, बिहार, अमरनाथ पाठक, क्षेत्रीय पदाधिकारी, आर.पी.सिंह, सीजीएम, बीएसआरडीसी, संजय कुमार, कार्यपालक अभियंता, एनएच, मोतिहारी, इरफान अली आदि उपस्थित रहे।

Check Also

शहीद जवानों के प्रति मझौलिया प्रखंड क्षेत्र के जगह-जगह पर निकला गया कैंडल मार्च

  मझौलिया एन0 आलम की रिपोर्ट मझौलिया। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुई आतंकवादी घटना में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *