पुर्णिया”शुद्ध पेयजल को तरस रहे विधायलय में नौनिहाल, पीएचईडी और शिक्षा विभाग निश्चित ।

पुर्णिया”केन्द्र व राज्य सरकारें शिक्षा के नाम पर जहां लाखों रुपये खर्च कर रही है। वही पुर्णिया में सभी राजकीय विद्यालय के बच्चे शुद्ध पेयजल को तरस रहे हैं। शुद्ध पेयजल नहीं मिलने के कारण मासूम खारा व फ्लोराइड युक्त पानी पीने को मजबूर है। इसके चलते नौनिहालों को कई प्रकार की बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन शिक्षा विभाग व पीएचईडी विभाग इससे अनजान बना बैठा है।

शुद्ध पेयजल को तरस रहे नौनिहाल

पुर्णिया जिला के सभी राजकीय प्राथमिक विद्यालय में मासूमों के सामने पेयजल का संकट खड़ा है। शिक्षा के नाम पर लाखों रूपये पानी की तरह बहा दिए जाते हैं। इस सरकारी स्कूल के बच्चे पिछले एक दशक से फलोराइड युक्त पानी का सेवन कर रहे हैं। शुद्ध पेयजल के लिए तरस रहे बच्चों के सिर पर बीमारियों का खतरा मंडराता रहता है। इसके चलते कई बार नौनिहालों को बीमारियों का सामना करना पड़ता है। वहीं शिक्षा विभाग व पीएचईडी विभाग बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर निश्चिंत होकर बैठा है।

Check Also

जावेद बने प्रखंड सिकटा के राजद के कार्यकारी अध्यक्ष !

🔊 Listen to this  जावेद अख्तर उर्फ पप्पू   सिकटा(चितंरजन कुमार गुप्ता )। प्रखंड राजद के …