पुर्णिया”सियासत की विसाद में घिरा मेयर की कुर्सी ।

 पुर्णिया, बिहार में आगामी लोकसभा चुनाव की आगाज से एनडीए में प्रतियाशी सीट बंटबारा को लेकर गठबंधन में अटकले दरार की गर्म बाजार को नीतीश कुमार ने फिलहाल खारिज किया है ।
वही पुर्णिया लोकसभा में एनडीए गठबंधन में अंदरूनी कलह जारी है । हलाकि इस अंदरूनी कलह को शोशल मीडिया के माध्यम से समर्थक गण जारी कर रहे ,वैसे वर्तमान और पूर्व एनडीए नेता की ओर से अंदरूनी कलह पर व्यक्तिगत बयान नही आया है ।

बता दे कि 2016 जून माह में नगर निगम मेयर कुर्सी की चुनाव बड़ी ही गहमागहमी के बीच सम्पन हुआ था । वार्ड पार्षदों की सहमति से विपक्ष को मत देते हुए विभा कुमारी ने मेयर की कुर्सी हासिल करने में सफलता पाई थी।
राजनीति की गल्यारो में कदम रखते ही विभा कुमारी ने निगम की मनमानी से शहर वाशियो को निजात दिलाने का काम किया है साथ ही शहर के गरीब लाभुकों के बीच बिचौलियों को बाहर निकालते हुए सीधा लाभ पहुचाने का काम किया है ।

आज पुर्णिया की राजनीति ने पुर्णिया में मेयर पद के लिए अविश्वाश लगा कर सियासी पारा को बढ़ाबा दे दिया है।
जानकर बताते है की मेयर चुनाव के टिक दो वर्ष पूरा होते ही मेयर की कुर्सी पर अविश्वाश की सुगबुगाहट हुई थी । आज अविश्वाश अबधि पूरा होते ही विपक्ष ने मेयर कि कुर्सी पे अविश्वाश की मोहर लगा दी है ।

जानकर ने यह भी बताया की विपक्ष की ओर से 20 वार्ड पार्षदों की सहमति पत्र जिला पदाधिकारी के कार्यलय में समर्पित किया है साथ ही 10 वार्ड पार्षद की सहमति पत्र उपस्थिति निर्धारित समय में किया जाना है ।
साथ ही जानकर ने बताया की मेयर की ओर से आविश्वश को खारिज कर 26 वार्ड पार्षदों की विश्वाश सहमति पत्र हासिल होने की बात सामने आ रही है ।
हलाकि यह जग जाहिर है कि मेयर की कुर्सी पर विराजमान और कुर्सी के लिए अविशास पारित करने वाले विपक्ष दोनों ही जदयू गुट के वरिष्ठ पार्टी कार्यकर्ता खेमा से हैं ।

Check Also

Price parrots pay for quirk

Price parrots pay for quirk

🔊 Listen to this In the world of exotic caged parrots, money talks before the …