All for Joomla All for Webmasters
May 24, 2018
You can use WP menu builder to build menus

 राज्य ब्यूरो : बिहार के पुर्णिया जिला में लगातार आपराधिक घटनाओं से काफी सुर्खियों में है ।
शहर में घटित घटनाओं के बीच राजनीती सरगर्मी भी तेज हो गई है । ऐसे में बर्तमान जनप्रतिनिधि सांसद और पूर्व के सांसद के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है।
जदयू सांसद संतोष कुशवाहा ने व्यवसाई पिंकू जयसवाल पर जानलेवा हमला को लेकर साथ ही पुर्णिया में हो रहे लगातार आपराधिक घटनाओ पर अपने आवास कार्यलय में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि सुशासन की सरकार में ऐसे आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने वाले को बक्सा नही जाएगा । साथ ही संतोष कुशवाहा ने पूर्व के सांसद के कार्य काल मे आपराधिक ग्राफ कि चर्चा में बीजेपी विधायक राजकिशोर की हत्या की आलोचना करते हुए कहा कि पुर्णिया की जनता को पता है कि विधायक की हत्या किन के इशारों में कराई गई । चर्चा के बाद से ही सोशल मिडीया के माध्यम से विधायक राजकिशोर की हत्या कांड में बरी पत्रकार नवलेश पाठक के फेसबुक के स्क्रीन सॉर्ट वायरल के माध्यम से यह बात सामने आने लगा की स्व0 विधायक कि हत्या करने वाला का काला चिट्टा और सीडी और हत्या सम्बंधित ओडियो सुरक्षित है । जो हत्या कराने वाले शक्श को बखूबी पहचानता है ।
जल्द ही सच्चाई जनता के बीच होगी । इसपर पूर्व सांसद उदय सिंह ने तुरंत संज्ञान लेते हुए CBI निदेशक से पुनः जांच कराने के लिये पत्र लिखा है। साथ ही नवलेश पाठक और वर्तमान सांसद के समर्थकों से आग्रह भी किया है कि उनलोगों के पास जो भी सबूत है CBI को मुहैया कराए ताकि जो अभियुक्त(आतंकवादी) नहीं पकड़ा गया या बाहर घूम रहा है उस पर कार्यवाई हो सके। और वो आतंकवादी दूसरी घटना ना कर सके। स्व0 विधायक केसरी के हत्या कांड में नवलेश पाठक भी अभियुक्त था जिसे CBI ने साक्ष्य के अभाव में बड़ी कर दिया था। पूर्व सांसद का मानना है कि अगर उनके पास साक्ष्य था तो उस समय छिपाया क्यों? उन्होंने ने बताया कि बिना समय गवाएं संज्ञान लेने की जरूत है । CBI निदेशक को पत्र लिखाकर पुनः जाँच करने का आग्रह किया है ।साथ हीं वर्तमान सांसद से भी आग्रह किये हैं कि वो भी CBI को पत्र लिखे ताकि असली हत्यारा(आतंकवादी) जो पूर्णिया में घूम रहा है पकड़ा जा सके। जो कह रहे थे कि पहले शक था अब यकीन हो गया, उनसे भी आग्रह किया है कि उनके पास भी अगर कोई सबूत है तो सहयोग के लिए तैयार रहे।