All for Joomla All for Webmasters
April 24, 2018
You can use WP menu builder to build menus

 ब्यूरो रिपोर्ट प0 चंपारण बेतिया। प0 चंपारण जिला कर स्थानीय नगर के अस्पताल रोड स्थित नारायणी सुपरस्पेसलिस्टि ऑर्थोपेडिक अस्पताल के सौजन्य से मंगलवार को मुफ्त हड्डी(बीएमडी) जाँच शिविर का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बिहार ऑर्थोपेडिक एसोसिएसन के जिला सचिव एवं इण्डियन मेडिकल एसोसिएशन के जिला मीडिया प्रभारी एवं हड्डी, जोड़, रीढ़ एवं नस रोग विशेषज्ञ डॉ0 उमेश कुमार ने मुफ्त जाँच शिविर का उद्घाटन करते हुए बताया कि रीढ़ के हड्डी से संबंधित 80 प्रतिशत फ्रेक्चर ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी के कारण होते है। इस बीमार में हड्डीयो का घनत्व एवं अस्थि मज्जा दोनो कम हो जाते है। जिससे हड्डियां मुरमुराने लगती है और अतिसंवेदनशील हो जाती है। यह बीमारी बीएमडी जाँच से पता चलता है। एक अध्ययन में यह बात सामने आयी है कि 40 वर्ष से ज्यादा उम्र के 70 प्रतिशत लोगो मे ऑस्टियोपोरोसिस के शुरुवाती लक्षण दिखाई दिए है। अगर बीएमडी जाँच समय पर कराकर कैल्सियम एवं विटामिन डी थ्री दवा के अलावा उचित आहार दूध, दाल, अंडा, हरी सब्जी खाने में इस्तेमाल करे एवं नियमित व्यायाम की जाये तो इस बीमारी से बचा जा सकता है। ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी के लक्षण हड्डी का टुटना, गठिया, हड्डी के आकार में बदलाव, जोड़ एवं कमर दर्द व शरीर मे जकड़न/ ऐंठन हो सकते है। इस बीमारी से बचाव के लिए वजन नियंत्रित रखे, नमक या चीनी कम मात्रा में ले, नियमित योग/व्यायाम करें, ध्रुमपान, एल्कोहल, कोल्ड ड्रिंक्स, चाय/काफी से बचे, नियमित आधा लीटर दूध का सेवन करे, नियमित सुबह में आधा घन्टा धूप में बैठना व बीएमडी जाँच में गड़बड़ी आने पर ड्राक्टरी सलाह पर कैल्सियम/विटामिन डी थ्री ले। इस शिविर में सैकड़ो मरीज लाभान्वित हुए। वही कई जरूरतमंद मरीजो को मुफ्त में दवा भी दिया गया। इस मौके पर अस्पताल के कर्मी सहित कई उपस्थित रहे।