All for Joomla All for Webmasters
February 25, 2018
You can use WP menu builder to build menus

 पुर्णिया, मनोज मिश्रा:मवेशियों की तस्करी का मुख्य जॉन पुर्णिया और अररिया जिला को मानने वाले बंगाल के तस्कर बे रोक टोक मवेशी की तस्करी कोअंजाम देते है इन तस्करों को जिला के स्थानी स्पोर्ट मिलता है ।स्थानीय तस्कर स्पोटर बंगाल के तस्करों को गांव से मवेसी इकट्ठा कर बारे कंटेनर ट्रक में लोड कर बिहार के रास्ते बंगाल भेजने का काम खूब कर रहे.मवेशी हाट के आर में भी मवेशियों की तस्करी को अंजाम दिया जा रहा है . पुर्णिया शहर में कभी काल छोटे गाड़ियों में दर्जनों मवेशी को लेकर जाते देखा गया है . मवेशियों की तस्करी करने वालो छोटे स्तर के तस्कर पुलिस के हथते चढ़ा जाते है .
आज कि पुलिसिया करवाई में लेडी सिंगम मेनका रानी ने बड़े पैमाने में मवेशियों से लदा तीन ट्रक से 85 मवेशी को आजाद कराने में सफल रही .

गौरतलब है कि मीरगंज थानाध्यक्ष मेनका रानी को एक गुप्त सूचना मिली कि बनमनखी हाट से कई ट्रकों में मवेशी को लादकर ले जाने की तैयारी हो रही है. बस क्या था, इतनी सूचना ही काफी थी. मीरगंज थानाध्यक्ष ने अपने गुप्तचरों को लगा दिया और मिनट टू मिनट की जानकारी लेने लगीं. स्वयं सिविल ड्रेस में मीरगंज चौक पर मवेशी से भरा ट्रक और तस्करों को दबोचने का इंतजार में खड़ी रही . ठीक रात के 1 बजकर 30 मिनट में दो ट्रक मीरगंज चौक से निकलते ही ख़बरीं ने थानाध्यक्ष मेनका को खबर कर दिया और ठीक 1 किलोमीटर आगे ट्रकों को रुकने का इशारा पुलिस ने किया .

लेकिन दोनो में से कोई भी ट्रक को ड्राईवर ने नहीं रोका. जैसे ही ट्रक आगे बढा पुलिस ने सड़क पर बेरियर लगा कर जबरन ट्रक को रुकवाया. बेरियर को देखते ही ट्रक चालक ट्रक को बेरियर से पहले ही रोककर सभी लोग फरार हो गए. लेकिन तब तक जिले के सभी थानों को अलर्ट कर दिया गया था. उसी क्रम में बायसी में भी एक ट्रक को जब्त किया गया. आज सुबह जब तीनों ट्रकों को पूर्णिया मुख्यालय लाया गया तो देखा गया कि कुल 85 मवेशी थे. उनमें से 5 मवेशी ट्रकों के अंदर दबकर मर गए थे, जिसको जिला प्रशासन ने विधिवत दाह-संस्कार कर दिया है.