All for Joomla All for Webmasters
April 24, 2018
You can use WP menu builder to build menus

ब्यूरो रिपोर्ट प0 चंपारण

बेतिया। बिहार-उत्तर प्रदेश को जोड़ने वाली पुल पखनाहा-से-तमकुही निर्माण के लिए केंद्र सरकार सहित बिहार व उत्तर प्रदेश सरकार ने हरी झण्डी दिखा दिया। इस पुल के लिए 20 वर्षो में लगभग कई संघर्ष समिति ने अपनी मांग को रखते हुए अड़े रहे। 9 वर्ष पूर्व में एनडीए के केंद्र सरकार द्वारा राशि पुल निर्माण के लिए दिया गया। जिसमे बिहार सरकार ने भी अपनी स्वीकृति प्रदान किया था। लेकिन उत्तर प्रदेश में मायावती की सरकार ने इस पुल निर्माण में अपनी स्वीकृति नही दिया। जिसके कारण पुल का निर्माण नही हो सका। उक्त बातें प0 चंपारण जिला सांसद डॉ0 संजय जायसवाल ने अपने बेतिया स्थित आवास पर प्रेस वार्ता बताया। उन्होंने आगे बताया कि इस पुल का निर्माण होने से महज कुछ ही घण्टो में बेतिया से उत्तर प्रदेश के तमकुही जाया जा सकता है। जिससे व्यवसायी सहित आम जनता को भी सुविधा होगी। इस पुल की स्वीकृति केंद्र सरकार से मिलते ही बिहार सरकार मुख्यमन्त्री नितीश कुमार व उत्तर प्रदेश मुख्यमन्त्री आदित्य नाथ योगी ने स्वीकृति दे दिया। इस पुल का शिलान्यास 25 जनवरी 2018 को तमकुही या देवरिया में आदित्य नाथ योगी व केंद्रीय पथ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के द्वारा किया जाना है। वही बेतिया छावनी ओवर ब्रिज के लिए अभी बिहार सरकार अनुमति नही दिया है। जैसे ही बिहार सरकार अनुमति देती है तो कार्य प्रारंभ कर दिया जायेगा। वही उन्होंने आगे कहा कि छपवा से रक्सौल जो नेपाल को जोड़ती है उसमे भी पुल के निर्माण राशि को बिहार सरकार की धन व्यवस्था देखते हुए केंद्र सरकार पथ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से बात किया गया। उसके बाद उन्होंने उस पुल निर्माण राशि को भी स्वीकृति दिया है। जिससे जल्द रक्सौल-पिपरा कोठी पथ शुरू किया जायेगा। इस मौके पर युवा नेता विजय चौधरी, जिलाउपाध्यक्ष पन्नालाल साह, नगर मण्डल अध्यक्ष छठु शर्मा, मझोलिया प्रखण्ड अध्यक्ष मनु कुशवाह सहित कई उपस्थित रहे।