All for Joomla All for Webmasters
December 16, 2017
You can use WP menu builder to build menus

कार्तिक पूर्णिमा मेला की तैयारी को लेकर अधिकारियो के साथ जिला प्रशासन ने की बैठक ।

हाजीपुर : कार्तिक पूर्णिमा मेला की तैयारी को लेकर जिला प्रशासन ने अभी से ही अपनी तैयारी शुरू कर दी है। पूर्णिमा स्नान को यहां जुटने वाली लाखों श्रद्धालु की भीड़ को नियंत्रित व सुरक्षा व्यवस्था करने को लेकर मुकम्मल व्यवस्था की है। नदी घाटों से लेकर सड़क मार्ग तक सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था की जा रही है। कार्तिक पूर्णिमा स्नान के दौरान कोई चूक न हो इसके लिए जिला प्रशासन ने अभी से ही सारी तैयारियां शुरू कर दी है साथ ही उनकी समीक्षा भी कर रहा है। मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में डीएम रचना पाटिल ने संबंधित विभाग के पदाधिकारियों के साथ कार्तिक पूर्णिमा के दौरान भीड़ नियंत्रण व सुरक्षा व्यवस्था पर चर्चा की। इस दौरान उन्होंने संबंधित पदाधिकारियों को अभी से ही तैयारी में जुट जाने का निर्देश दिया।
मालूम हो कि इस बार 3 व 4 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा स्नान का शुभ मुहुर्त है। कार्तिक पूर्णिमा स्नान को दो दिन पहले से ही श्रद्धालुओं का यहां आना जाना शुरू हो जाती है। श्रद्धालु हाजीपुर व सोनपुर के विभिन्न घाटों पर नारायणी नदी में मोक्ष की कामना के साथ स्नान करते हैं। सुरक्षा को ले घाटों पर तैनात रहेंगे पुलिस जवान कार्तिक पूर्णिमा स्नान को लेकर घाटों पर पर्याप्त संख्या में पुलिस के जवानों को तैनात किया जाएगा। छठ घाटों पर बांस-बल्ले से बैरिकेडिंग की जाएगी। साथ ही सभी घाटों पर सफाई की बेहतर व्यवस्था व ब्लिचिअंग पाउडर का छिड़काव कराने का निर्देश नगर परिषद को दिया गया है। नदी में एनडीआरएफ के जवानों के साथ-साथ जिला प्रशासन के पदाधिकारी भी नाव से पेट्रोलिंग करेंगे। इसके अलावा एंबुलेंस के साथ मेडिकल टीम भी घाट पर मौजूद रहेगी। इसके अलावा कंट्रोल रूम भी बनाया जा रहा है। यहां तैनात पदाधिकारी व कर्मी वायरलेस से लैश रहेंगे। किसी भी तरह की समस्या होने पर तुरंत इसकी सूचना वरीय अधिकारियों के साथ-साथ पुलिस की मोबाइल टीम को दी जाएगी। सूचना मिलते ही पुलिस की मोबाइल टीम तुरंत हरकत में आएगी। नदी घाटों पर हर गतिविधि पर पैनी नजर रखने के लिए वाच टावर भी बनाए जाएंगे।
भीड़ नियंत्रण के साथ सुचारू यातायात पर भी नजर
कार्तिक पूर्णिमा के दौरान श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को नियंत्रित करने के साथ-साथ यातायात की सुचारू व्यवस्था को लेकर भी चाक-चौबंद व्यवस्था की जाएगी। नए और पुराने गंडक पुल पर दंडाधिकारी के नेतृत्व में पुलिस बल की तैनाती रहेगी। साथ ही इस दौरान वाहनों की आवाजाही व नदी घाटों पर भीड़ नियंत्रण के लिए भारी संख्या में पुलिस बल के साथ-साथ स्काडट एंड गाइड के कैडेटों को भी लगाया जाएगा। पुलिस की मोबाइल गश्ती टीम व बड़ी संख्या में मजिस्ट्रेट को भी तैनात किया जाएगा ।